Monday, July 13, 2020

अंडा भुर्जी बेचने वाले का बेटा हसन सबसे कम उम्र IPS, युवाओं के लिए प्रेरणा स्त्रोत

SD24 News Network
अंडा भुर्जी बेचने वाले का बेटा हसन सबसे कम उम्र IPS, युवाओं के लिए प्रेरणा स्त्रोत
पहले सपना देखना और फिर शायद वो सपना पूरा हो जाए बहुत ही बड़ी बात होती है। माता पिता के लिए बहुत ही बड़ी बात होती है कि उनका बेटा नाम रोशन करें। आपने ऐसी ही कहानी तो सुनी ही होगी। मेहनत करने वालो को एक ना एक दिन मंजिल मिल ही जाती है। सिर्फ हिम्मत और हौसला रखना जरूरी होता है। हम आपको आज एक ऐसी की खबर से रूबरू कराने जा रहे है । इस शख्स ने गुरबत में दिन गुजारे और रात दिन मेहनत के बाद आज सबसे कम उम्र के IPS बने है ।


न्यूज 18 पर छपी खबर के अनुसार, ये बात है गुजरात जिले के रहने वाले सफीन हसन की । इनकी माता घर घर जाकर रोटियां बनाने का काम किया करती थी। इनके माता पिता रात के वक्त उबले हुए अंडे ओर ब्लेक टी का ठेला लगाया करते थे। इनके पिता ने इलेक्ट्रिशियन का भी काम किया है। ये अपनी नोकरी की शुरुआत 22 दिसम्बर से करने वाले है। इनको जामनगर की पोस्टिंग दी गई है।


जिसने अपने घर की बहुत परेशानी को देखते हुए भी कभी भी हिम्मत नही हारी ओर देश के IPS बन गए है। 2017 की सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास करने वाले सफीन हसन ने 570वीं रेंक हासिल की है। जो सिर्फ 22 साल के है। बता दे कि यह सबसे कम उम्र के IPS बने है। जब ये स्कूल में पढ़ते थे तब इनके स्कूल में कलेक्टर का आना हुआ था। इन्होंने इनकी मौसी से पूछा कि कलेक्टर कौंन होते है।


इनकी मौसी ने बताया कि कलेक्टर किसी जिले का राजा होता है। तब से इन्होंने भी इसी मंजिल तक पहुचने के लिए मेहनत करी। हसन ने 10 वी कक्षा में 92 प्रतिशत प्राप्त किए थे। इनको साइंस स्ट्रीम से पड़ने का शोक था। हसन ने बताया कि उनके जिले में हर साल एक प्राइमरी स्कूल खुलता था। उस स्कूल की फीस बहुत ज्यादा थी।

इनकी घर की परेशानी को देखते हुए इनकी फीस को आधी कर दी गई थी। 11 वी कक्षा में इन्होंने अंग्रेजी सीखना शुरू किया। इनके होस्टल के समय में ये बच्चों को कोचिंग भी पढ़ाते थे। आपको बता दे, यूपीएससी के अ:टेम्प्ट में इनका एक्सी:डें;ट हो गया था। पहले ये एग्जाम देने गए। बाद में हॉ’स्पिटल में ए’ड’मिट कराया गया।


No comments:

Recent Comments