Thursday, July 16, 2020

ख्वाजा मेनुद्दीन चिश्ती (र) द्वारा लोगों में जागरूकता और शैक्षिक-चिकित्सा योगदान

ख्वाजा मेनुद्दीन चिश्ती (र) द्वारा लोगों में जागरूकता और  शैक्षिक-चिकित्सा योगदान
भारत आने के बाद, हज़रत ख्वाजा मेनुद्दीन चिश्ती ने आम आदमी और उसके प्राकृतिक अधिकारों के लिए काम करना शुरू किया। उन्होंने इस कार्य के लिए दिल्ली और अजमेर क्षेत्र में अपने साधकों को प्रेरित किया।

उन्होंने मकतब, मदरसा और अन्य विभिन्न माध्यमों से शिक्षा के लिए प्रयास किया। यह उस समय भारतीय शिक्षा प्रणाली में बदलाव की शुरुआत थी। भारतीय शिक्षा प्रणाली में ग्रीक और अरबी दर्शन की शुरूआत सूफी शिक्षा प्रणाली के कारण हुई थी। उस समय, किसी को भी मदरसों और स्कूलों में पढ़ने पर प्रतिबंध नहीं था। सूफी की कव्वाली प्रबोधन काव्य में जीवन का अधिकार, जो लोग अपने अधिकारों और सामाजिक कर्तव्यों से अनजान थे, उन्हें अपने कर्तव्यों के बारे में जागरूक किया गया।

चिश्ती सूफियों द्वारा निर्मित मदरसों और स्कूलों को तत्कालीन मुस्लिम शासकों ने बहुत सहायता प्रदान की। मध्यकालीन इतिहास के औजारों के अनुसार, 13 वीं शताब्दी की शुरुआत में दिल्ली क्षेत्र में सैकड़ों स्कूल शुरू किए गए थे। तुर्की, बगदाद, अफगानिस्तान, ईरान आदि देशों के शिक्षक इसमें सेवा दे रहे थे। छात्रों को समायोजित करने के लिए छात्रावास भी प्रदान किए गए थे। दिल्ली और राजस्थान के कुछ हिस्सों में भारी शैक्षिक सुविधाएं बनाई गईं। यही वजह है कि यहां देश-विदेश के छात्र शिक्षा के लिए आते थे।

इतिहासकारों द्वारा अल्बेरूनी, जियाउद्दीन बर्नी, मिनहाजुल सिराज आदि द्वारा दी गई जानकारी से उस समय की शिक्षा प्रणाली के बारे में जानकारी दी गई है। उस समय दर्शन, यूनानी विचारक, अरबी साहित्य, अरबी भाषा, व्याकरण, कुरान, कुरान विश्लेषण, हदीस विज्ञान, मौखिक इतिहास कथन परंपरा और इसकी विधियों सहित कई भाषाओं को पढ़ाया जा रहा था।

प्रा. नसीरुद्दीन चरग दाहेलवी पर मुहम्मद हबीब का शोध महत्वपूर्ण है। यह उस समय के सामाजिक जीवन और सूफी-प्रेरित परिवर्तनों की प्रक्रिया के बारे में जानकारी प्रदान करता है। हजरत ख्वाजा मेनुद्दीन चिश्ती के चाहने वालों में कई हकीम भी थे। उनके माध्यम से आम लोगों को चिकित्सा सुविधा भी उपलब्ध कराई गई।

जहाँगीरनामा के अभिलेख इन हकीमखानों और उनके इतिहास में सुविधाओं के बारे में जानकारी देते हैं। सूफियों ने आम आदमी का मुफ्त इलाज करने की कोशिश की थी। ख्वाजा मेनुद्दीन चिश्ती की खानकाह में चिकित्सा के लिए लोग बड़ी संख्या में आते थे। एक समकालीन इतिहासकार के अनुसार, ख्वाजा मेनुद्दीन चिश्ती ने लगभग 100 हकीमखानों की शुरुआत की।
(लेखक - सरफराज शेख प्रसिद्द इतिहासकार, सोलापुर, लेख मूल मराठी से अनुवादित) 

No comments:

Recent Comments