Showing posts with label संपादकीय. Show all posts
Showing posts with label संपादकीय. Show all posts

Friday, August 9, 2019

मुसलमानों में रत्ती भर भी कट्टरपंथ नहीं, अगर 1% में भी होता तो देश बर्बाद हो जाता -अजित साही

August 09, 2019
"बचपन से जो घुट्टी के साथ पिया है उसे निकालना आसान नहीं है. लेकिन मुश्किल भी नहीं है. अपनी अक़्ल लगाओ."   मेरे बचपन के प्यार...

370 तो जानते हो ? संविधान के आर्टिकल 15 पर बदनुमा दाग है अनुच्छेद 341

August 09, 2019
भारतीय संविधान नागरिकों की समानता, भाषा, धर्म और संस्कृति जैसे मुद्दों पर अल्पसंख्यकों को संरक्षण प्रदान करने, सुरक्षा तथा समानता का अध...

Recent Comments